Fatafat Cricket News

Fatafat Cricket News

हार्दिक पंड्या की मनमानी टीम इंडिया को डुबो रही है, सिर पर चढ़ी IPL की कामयाबी

hardik pandya (हार्दिक पंड्या)

Hardik Pandya (हार्दिक पंड्या)

हार्दिक पंड्या ने पिछले कुछ महीनों में टीम इंडिया के लिए शानदार प्रदर्शन किया है. उन्होंने आईपीएल में गुजरात टाइटंस को चैंपियन बनाया और फिर वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज में टीम की कप्तानी करते हुए जीत हासिल की. लेकिन इन सफलताओं के बाद भी, हार्दिक की कप्तानी को लेकर कुछ सवाल उठ रहे हैं.

वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज में, हार्दिक ने कई ऐसे फैसले लिए जो समझ से परे थे. उन्होंने मुकेश कुमार और अक्षर पटेल जैसे गेंदबाजों को सही से नहीं इस्तेमाल किया. उन्होंने खुद ही पहला ओवर डाला, जबकि वह स्विंग बॉलर नहीं हैं. उन्होंने 20 साल के युवा खिलाड़ी तिलक वर्मा का हक भी मारा.

हार्दिक की कप्तानी में सबसे बड़ी कमी यह है कि वह अपने फैसलों में बहुत जल्दबाजी करते हैं. वह मैदान पर स्थिति का आकलन करने के बजाय, अपने गट फीलिंग पर भरोसा करते हैं. यह कई बार टीम के लिए भारी पड़ जाता है.

हार्दिक को अपनी कप्तानी में थोड़ी और सोच-समझकर फैसले लेने की जरूरत है. उन्हें अपने गेंदबाजों को सही से इस्तेमाल करना होगा और अपने युवा खिलाड़ियों को मौके देना होगा. अगर वह ऐसा नहीं करते हैं, तो टीम इंडिया को भविष्य में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.

हार्दिक पंड्या के लिए कुछ सुझाव

  • अपने फैसलों में जल्दबाजी न करें.
  • मैदान पर स्थिति का आकलन करें.
  • अपने गेंदबाजों को सही से इस्तेमाल करें.
  • अपने युवा खिलाड़ियों को मौके दें.
  • एक टीम के रूप में खेलें.

अगर हार्दिक इन सुझावों को मानते हैं, तो वह टीम इंडिया के लिए एक बेहतर कप्तान बन सकते हैं. लेकिन अगर वह ऐसा नहीं करते हैं, तो टीम इंडिया को भविष्य में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.

hardik pandya (हार्दिक पंड्या)

हार्दिक पंड्या की मनमानी की कुछ उदाहरण

  • वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टी20 मैच में, हार्दिक ने युजवेंद्र चहल को 18वें ओवर में गेंदबाजी करने के लिए नहीं बुलाया. चहल ने पहले 17 ओवर में 2 विकेट लिए थे और वेस्टइंडीज के 8 विकेट गिर चुके थे. अगर हार्दिक ने चहल को गेंदबाजी करने के लिए बुलाया होता, तो भारत शायद मैच जीत जाता.
  • वेस्टइंडीज के खिलाफ तीसरे टी20 मैच में, हार्दिक ने मुकेश कुमार और अक्षर पटेल को एक-एक ओवर दिया. मुकेश कुमार और अक्षर पटेल दोनों ही अच्छे गेंदबाज हैं, लेकिन उन्हें केवल एक-एक ओवर मिला. अगर हार्दिक ने इन दोनों गेंदबाजों को ज्यादा ओवर दिए होते, तो भारत शायद मैच जीत जाता.
  • वेस्टइंडीज के खिलाफ तीसरे टी20 मैच में, हार्दिक ने तिलक वर्मा को 50 करने का मौका नहीं दिया. तिलक वर्मा 49 रन बनाकर खेल रहे थे और भारत को जीत के लिए 14 गेंद पर 2 रन चाहिए थे. हार्दिक ने खुद ही छक्का मारकर भारत को जीत दिला दी, लेकिन उन्होंने तिलक वर्मा को 50 करने का मौका नहीं दिया. अगर हार्दिक ने तिलक वर्मा को 50 होने का मौका दिया तो हार्दिक की इतनी आलोचना नहीं होती .

हार्दिक पंड्या की मनमानी टीम इंडिया के लिए एक बड़ी चिंता का विषय है. अगर वह अपनी कप्तानी में थोड़ी और सोच-समझकर फैसले नहीं लेते हैं, तो टीम इंडिया को भविष्य में कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है.

Leave a Comment